Breaking Newsमध्यप्रदेश

शिवपुरी में प्रसूता की मौत के बाद स्वजनों ने नर्सों को पीटा, एफआइआर के बाद थाने में शव रखकर हंगामा

शिवपुरी में प्रसूता की मौत के बाद स्वजनों ने नर्सों को पीटा, एफआइआर के बाद थाने में शव रखकर हंगामा

शिवपुरी ! ब्यूरो नेटवर्क इंडिया न्यूज

जिला अस्पताल में सोमवार देर रात एक प्रसूता की मौत के बाद हंगामा हो गया। इलाज के दौरान प्रसूता की मौत होने पर उसके स्वजनों ने नर्सों की लात-घूसों से पिटाई कर दी। उन्हें गालियां दीं। रात में जैसे-तैसे नर्सों ने भागकर अपनी जान बचाई। इसके बाद सुबह होते ही सभी नर्स इकठ्ठा होकर काम बंद कर दिया और अस्पताल परिसर में इकठ्ठा हो गईं। काम बंद हुआ तो सिविल सर्जन, मेडिकल कॉलेज के डीन डा. अक्षय निगम और अन्य चिकित्सक वहां पहुंचे और नर्सों को समझाया। इसके बाद सभी ने कोतवाली थाना में जाकर आवेदन दिया। शिवाली और प्रियंका की शिकायत पर पुलिस ने धारा 353 में मामला दर्ज कर लिया।

पुरानी शिवपुरी निवासी 35 वर्षीय फरजाना पत्नी उवेश खान को 2 जनवरी को जिला चिकित्सायल में भर्ती कराया गया था। अगले दिन 3 जनवरी को उसने आपरेशन से बेटी को जन्म दिया। सोमवार को उसकी तबीयत बिगड़ने गली। इस पर नर्सों ने डा. इंदु जैन और डा. साकेत सक्सेना को जानकारी दी। उनके बताए अनुसार इलाज किया। जब तबीयत बिगड़ी तो उसे लेबर रूम में लेकर गए। यहां उसकी मौत हो गई। मौत के बाद फरजाना के स्वजनों ने मारपीट शुरू कर दी। नर्स प्रियंका राजे और शिवाली मोहिते के साथ जमकर मारपीट की। गालियां दीं। हंगामे के बीच ही वरिष्ठ चिकित्सकों को सूचना दी गई, लेकिन कोई मदद के लिए नहीं पहुंचा। नर्सों ने सुरक्षा के लिए गार्ड की मांग की है। उनका कहना है कि अभी के गार्ड सुरक्षा का ध्यान नहीं रखते हैं। यहां की पुलिस चौकी भी एक आदमी के भरोसे चलती है। वहां भी पूरे समय कोई ड्यूटी पर नहीं रहता है।

नर्सें पिटती रहीं, प्रबंधन से नहीं पहुंचा कोई डाक्टर

जिला अस्पताल में वरिष्ठ चिकित्सकों और अस्पताल प्रबंधन का यह हाल है कि उनकी ही स्टाफ नर्स वहां पिटती रहीं, लेकिन कोई भी वरिष्ठ अधिकारी या चिकित्सक वहां नहीं पहुंचा। नर्सों के आरोप लगाया कि जब हंगामा हो रहा था, तब जो ड्यूटी डाक्टर मौजूद थीं, उन्होंने भी बचाव में आने के बजाय अपने कमरे की कुंडी लगा ली। जब एक नर्स ने प्रबंधक डा. साकेत सक्सेना को फोन कर सूचना दी तो पहले तो उन्होंने मरने वालों का धर्म पूछा और इसके बाद कहा कि जब तुम लोगों को डेढ़ घंटे से बोल रहा हूं कि मरीज को देखो तो क्यों नहीं देखा। फिर गार्ड को सूचना देने की बात कहकर उन्होंने अपनी

इनका कहना है

नर्सों की शिकायत पर मृतका फरजाना के स्वजनों पर 353 का मामला दर्ज किया गया है। उसके स्वजनों ने भी एक चिकित्सक और दो नर्स पर लापरवाही का आरोप लगाया है। उनका भी शिकायती आवेदन ले लिया है और उसकी जांच कराएंगे।

सुधीर कुशवाह, एसडीओपी।

 

Related Articles

Back to top button
Close